रामायण हिंदी में लिखी गई एक महाकाव्य है जिसे महर्षि वाल्मीकि का श्रेय जाता है। यह कहानी राजकुमार राम की है, जो अपनी पत्नी सीता को राक्षस राजा रावण से बचाने के लिए एक यात्रा पर निकलते हैं। यह कहानी साहस, प्यार, भक्ति और नैतिक शिक्षाओं से भरी हुई है, जिसके कारण यह हिंदू पौराणिक कथाओं का अमूल्य हिस्सा है।

रामायण की कहानी अयोध्या नगर में राजा दशरथ और रानी कौशल्या के यहां राम के जन्म से शुरू होती है। राम भगवान विष्णु के सातवें अवतार के रूप में माने जाते हैं। राम ने तीनों गुणों (सत्य, धर्म, और भक्ति) के प्रतीक के रूप में अपने आप को साबित किया है।

राम का विवाह सीता के साथ होता है, जो महाराज जनक की पुत्री होती हैं। लेकिन, उनके पति-पत्नी के आनंद के बीच, रावण नामक राक्षस राजा सीता को अपहरण कर लेता है और उसे लंका नगरी ले जाता है।

राम और उनके भाई लक्ष्मण अपनी वानवास के दौरान जटायु से मिलते हैं, जो रावण की कार्यशैली को रोकने के लिए लड़ता है। जटायु अपने प्राणों की बलिदान करते हैं, लेकिन उसकी मृत्यु से पहले वह राम को बता देते हैं कि सीता अपहरित हो गई है और उसे लंका नगर ले गए हैं।

राम और लक्ष्मण उन्हें ढूंढ़ने के लिए एक वनवासी बनकर जाते हैं, जहां उन्हें विभीषण नामक राक्षस मिलता है, जो रावण के भाई होता है और वह राम का निरंतर भक्त है। विभीषण की सहायता से राम, हनुमान और एक बड़ी सेना के साथ लंका नगर आते हैं और उनके प्रयासों के बाद, राम रावण को मारते हैं और सीता को छुड़ाते हैं।

राम, सीता और लक्ष्मण अपनी वापसी के बाद अयोध्या लौटते हैं, जहां राम को राज्य का राजा घोषित किया जाता है। उनके अधिकार में अयोध्या नगर में खुशहाली और सुरक्षा का राज्य व्याप्त होता है। राम का राज्यकाल एक आदर्श राज्यकाल के रूप में जाना जाता है, जो सत्य, धर्म, और न्याय के प्रतीक है।

यह रामायण की संक्षेप में कहानी है, जो असल में बहुत विस्तृत है और अनेक उपकथाएं और कथाएं शामिल होती हैं। यह कहानी हिंदू धर्म के महत्वपूर्ण तत्वों को स्पष्ट करती है और मानवीय मूल्यों और नैतिकता की महत्वपूर्ण सीखों को संकल्पित करती है।


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *